Spread the love

टीवी चैनल अब फिर से टीआरपी (TRP) की लड़ाई में होंगे शामिल. सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने टीवी चैनलों की टीआरपी मापने वाली एजेंसी बार्क को फिर से तत्काल प्रभाव से टीवी चैनलों की टीआरपी जारी करने का आदेश जारी किया है. सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने ये कहा है कि बार्क पिछले तीन महीने के भी टीआरपी के आंकड़े जारी करें. इस बार रेटिंग संशोधित प्रणाली से होगी जिसके अनुसार अब रेटिंग चार हफ्ते की रोलिंग एवरेज कॉन्सेप्ट पर होगी यानी अब हर हफ्ते के बजाए महीने

 क्या है बार्क  (BARC) 

बार्क(BARC) का पूरा नाम Broadcast Audience Research Council है जो भारत में टीवी चैनलों की टीआरपी मापता है. इस प्रक्रिया में वो आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करता है. टीवी चैनलों को विज्ञापन दाता बार्क की केटिंग के अनुसार ही विज्ञापन देते हैं….

क्यों बंद हो गई थी टीआरपी रेंटिंग

दरअसल मामला ये है कि अक्टूबर 2020 में टीआरपी घोटाला सामने आया था जिसमें रिपब्लिक चैनले के मालिक अर्णव गोस्वामी का नाम प्रमुखता से सामने आया था. अर्णव के साथ ही अन्य कई टीवी चैनलों का नाम भी सामने आया था जिसके बाद ही बार्क की विश्वसनीयता पर लगातार सवाल उठने लगे थे. उसके बाद ही बार्क की टीआरपी रेटिंग पर रोक लगाई गई थी

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.

Open chat